Posts Tagged With: હિંદી ફીલ્મ

સર પે લાલ ટોપી

मेरा जूता है जापानी, ये पतलून इंगलिस्तानी
सर पे लाल टोपी रूसी, फिर भी दिल है हिंदुस्तानी
मेरा जूता…

निकल पड़े हैं खुली सड़क पर
अपना सीना ताने \- (२)
मंज़िल कहाँ कहाँ रुकना है
ऊपर वाला जाने \- (२)
बढ़ते जायें हम सैलानी, जैसे एक दरिया तूफ़ानी
सर पे लाल…

ऊपर नीचे नीचे ऊपर
लहर चले जीवन की \- (२)
नादाँ हैं जो बैठ किनारे
पूछें राह वतन की \- (२)
चलना जीवन की कहानी, रुकना मौत की निशानी
सर पे लाल…

होंगे राजे राजकुँवर हम
बिगड़े दिल शहज़ादे \- (२)
हम सिंहासन पर जा बैठे
जब जब करें इरादे \- (२)
सूरत है जानी पहचानी, दुनिया वालों को हैरानी
सर पे लाल…


સૌજન્ય: http://lyricsindia.net/songs/show/6764

Categories: હળવી પળો | Tags: , | 2 Comments

ज्योत से ज्योत जगाते चलो – હિંદી ફીલ્મ (સંત જ્ઞાનેશ્વર)

ज्योत से ज्योत जगाते चलो, प्रेम की गंगा बहाते चलो
राह में आए जो दीन दुखी, सबको गले से लगाते चलो

जिसका न कोई संगी साथी ईश्वर है रखवाला
जो निर्धन है जो निर्बल है वह है प्रभू का प्यारा
प्यार के मोती लुटाते चलो, प्रेम की गंगा…

आशा टूटी ममता रूठी छूट गया है किनारा
बंद करो मत द्वार दया का दे दो कुछ तो सहारा
दीप दया का जलाते चलो, प्रेम की गंगा…

छाई है छाओं और अंधेरा भटक गई हैं दिशाएं
मानव बन बैठा है दानव किसको व्यथा सुनाएं
धरती को स्वर्ग बनाते चलो, प्रेम की गंगा…

कौन है ऊँचा कौन है नीचा सब में वो ही समाया
भेद भाव के झूठे भरम में ये मानव भरमाया
धर्म ध्वजा फहराते चलो, प्रेम की गंगा …

सारे जग के कण कण में है दिव्य अमर इक आत्मा
एक ब्रह्म है एक सत्य है एक ही है परमात्मा
प्राणों से प्राण मिलाते चलो, प्रेम की गंगा …

Categories: ભજન / પદ / ગીત / કાવ્ય / ગઝલ | Tags: | Leave a comment

Blog at WordPress.com.