Daily Archives: 07/12/2011

हिंसा शांतिपूर्ण आन्दोलन का पर्याय नहीं हो सकता – અન્ના હજારે

एक जवान हरविंदर सिंह ने शरद पवार, कृषि मंत्री, भारत सरकार के मुंह पर थप्पड़ मारा और लोगों में हल्ला गुल्ला मच गया. किसी ने मुझ से पूछा शरद पवार के मुंह पर एक जवान ने एक थप्पड़ मारा, मैंने कहा एक ही थप्पड़ मारा? और प्रत्यक्ष थप्पड़ मारने वाले से “एक ही थप्पड़ मारा” कहने वाले को कई लोगों ने अधिक अपराधी माना.

मैंने कई बार ये कहा है कि, अन्ना हजारे कि तुलना महात्मा गाँधी जी से करना ठीक नहीं है. गाँधी जी के पास बैठने की भी मेरी पात्रता नहीं है. लेकिन उनके विचारों का थोड़ा सा प्रभाव मेरे जीवन में पड़ने के कारण देश की उन्नति के लिए ग्राम विकास और अहिंसात्मक संघर्ष जैसा थोडा सा कार्य मैं कर पाया.

વધુ વાંચવા માટે : हिंसा शांतिपूर्ण आन्दोलन का पर्याय नहीं हो सकता

Categories: ગમતાંનો ગુલાલ | Tags: , , | 1 Comment

યોગી કથામૃત – એક યોગીની આત્મકથા ( ૧૨/૩ )

Paramhansa Yogananda














Categories: યોગી કથામૃત | Tags: , , | Leave a comment

Blog at WordPress.com.